मुकेश का जीवन परिचय, पारिवारिक पृष्ठभूमि और बॉलीवुड संगीत(Biography of Mukesh)

Mukesh Biography

मुकेश का संक्षिप्त परिचय (Brief Introduction of Mukesh)

मुकेश हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के सबसे बेहतरीन गायकों में से एक है। वह अपने गीतों की सादगी के लिए जाने जाते हैं। उनके गीत अक्सर आम  व्यक्ति की जीवन शैली से जुड़े होते थे। मुकेश ने अपने समय के वरिष्ठ और दिग्गज अभिनेताओं व संगीत निर्माताओं के साथ काम किया है। मुकेश को बचपन से ही संगीत सीखने और गाने का बहुत शौक था। उन्होंने हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को बहुत से सुपरहिट गानों से सजाया है। मुकेश की वर्ष 1976 में यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ अमेरिका मिशिगन में हृदयाघात के कारण मृत्यु हो गई थी। मुकेश को उनकी मनमोहक और सुरीली आवाज के लिए कई अवार्ड से नवाजा जा चुका है। वह आज भी गायकों के लिए प्रेरणास्त्रोत बने हुए हैं | 

मुकेश का जीवन परिचय और उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि (Mukesh’s biography and his family background)

मुकेश का जन्म 22 जुलाई वर्ष 1930 को दिल्ली के एक माथुर कायस्थ परिवार में हुआ। इनके पिता का नाम जोरावर चंद माथुर  है जो कि उस समय इंजीनियर हुआ करते थे और इनकी माता का नाम चांद रानी माथुर है, जो गृहणी थी। मुकेश के माता-पिता के 10 बच्चे थे जिनमें से मुकेश छठे नंबर पर आते हैं। 

Also Read  नीना गुप्ता का संक्षिप्त जीवन परिचय। (Brief biography of Neena Gupta)

मुकेश की शैक्षणिक योग्यता (Mukesh’s educational qualification)

मुकेश की बड़ी बहन सुंदर प्यारी को संगीत सिखाने के लिए संगीत के अध्यापक आया करते थे।तभी उन्होंने इस बात पर गौर किया कि साथ ही के कमरे में एक छोटा बच्चा संगीत को बड़े ध्यान से सुन रहा है। मुकेश ने मात्र दसवीं कक्षा तक की पढ़ाई की थी।। उसके पश्चात उन्होंने शिक्षा को आगे ना बढ़ा कर पब्लिक वर्क डिपार्टमेंट में छोटा मोटा काम करना शुरू कर दिया था। दिल्ली में ही काम करने के दौरान उन्होंने अपने आवाज़ के साथ  कुछ प्रयोग करने शुरू किए,  जिससे कि इनकी गायकी  में सुधार हो गया और साथ ही साथ कुछ उन्होंने म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट भी सीखें।

 मुकेश की व्यक्तिगत जानकारी (Personal information of Mukesh)

वास्तविक नाम मुकेश चंद माथुर 
मुकेश का जन्मदिन 22 जुलाई 1923
 मुकेश की आयु 53 वर्ष
 मुकेश की मृत्यु तिथि 27 अगस्त 1976
 मुकेश की मृत्यु का कारण दिल का दौरा( आर्ट अटैक)
 मुकेश का जन्म स्थान राजधानी दिल्ली भारत
 मुकेश का मृत्यु स्थान डेट्रायट मिशीगन संयुक्त राज्य अमेरिका
 मुकेश  की राष्ट्रीयता भारतीय
मुकेश का धर्म हिंदू
 मुकेश की शैक्षणिक योग्यता  दसवीं पास
 मुकेश के स्कूल का नाम ज्ञात नहीं
 मुकेश के कॉलेज का नाम लागू नहीं
मुकेश की वैवाहिक स्थिति विवाहित
 मुकेश की वैवाहिक तिथि 22 जुलाई 1946
मुकेश की प्रति गीत आय  70 से 80 हज़ार रूपए 
 मुकेश की कुल संपत्ति12 करोड़ रूपए 

मुकेश की शारीरिक संरचना (Mukesh’s body composition)

मुकेश की लंबाई 5 फुट 9 इंच
 मुकेश का वजन 75 किलोग्राम
 मुकेश का शारीरिक माप छाती 40 इंच,  कमर 34 इंच,  बाइसेप्स 13 इंच 
 मुकेश की आंखों का रंग काला
 मुकेश के बालों का रंग काला

 मुकेश का परिवार (Mukesh’s family)

मुकेश के पिता का नामजोरावर चंद माथुर
 मुकेश की माता का नाम चांद रानी माथुर
 मुकेश की बड़ी बहन का नाम सुंदर प्यारी 
मुकेश की पत्नी का नाम सरल त्रिवेदी
 मुकेश के बड़े बेटे का नाम नितिन मुकेश
 मुकेश के छोटे बेटे का नाम मोहनीश मुकेश
 मुकेश की बेटियों के नाम रीटा,  नलिनी,  नम्रता
 मुकेश के पोते का नाम नील नितिन मुकेश

मुकेश का हिंदी फिल्मों में बतौर गायक पदार्पण (Mukesh’s debut as a singer in Hindi films)

मुकेश की आवाज की मधुरता को सबसे पहले मोतीलाल राजवंश ने समझा था। जब वह उनकी बहन की शादी में जा रहे थे। मोतीलाल राजवंश मुकेश को मुंबई पंडित जगन्नाथ प्रसाद के पास संगीत की बारीकियाँ सिखाने के लिए ले गए।  उसी समय उनको वर्ष 1941 में निर्दोष फिल्म में बतौर अभिनेता काम करने का प्रस्ताव आया। इस फिल्म में उन्होंने गीत भी गाया और अभिनय करके हिंदी फिल्मों में पदार्पण किया। इस फिल्म में उन्होंने गाना गाया था दिल ही बुझा हुआ हो तो। इसके पश्चात उन्होंने वर्ष 1945 में म्यूजिक कंपोजर अनिल विश्वास के साथ दिल जलता है तो जलने दो गाना गाया।

Also Read  श्रुति हासन की जीवनी, पारीवारिक पृष्ठभूमि और फिल्मों में पदार्पण(Shruti Haasan Biography)

मुकेश के एल सहगल के बहुत बड़े फैन हुआ करते थे। अपने शुरुआती पार्श्विक गायकी के दौरान वह के एल सहगल को ही फॉलो किया करते थे। यहां तक कि जब उन्होंने मुकेश को सुना तो वह भी उसे सुनकर हैरान रह गए।

मुकेश को असली पहचान तब मिली थी जब उन्होंने नौशाद अली संगीत निर्माता के साथ काम करना शुरू किया। उन्होंने मुकेश से  वर्ष 1949 में आई फिल्म अंदाज़ में गीत गवाया। इस फिल्म में दिलीप कुमार की आवाज को मुकेश ने और राज कपूर की आवाज को मोहम्मद रफी ने गाया था। इस फिल्म के साथ-साथ मुकेश ने नौशाद अली के लिए वर्ष 1948 में आई फिल्म अनोखी अदा और मेला में भी काम किया था। यहूदी फिल्म के लिए गाया गया गीत जिसमें संगीत शंकर जयकिशन ने दिया था “ यह मेरा दीवानापन है”  बहुत लोकप्रिय हुआ। बाद में धीरे-धीरे दिलीप कुमार ने अपनी आवाज के लिए मोहम्मद रफी और राज कपूर ने अपनी आवाज के लिए मुकेश को चुन लिया।

Also Read  मिथुन चक्रवर्ती का संक्षिप्त परिचय(Mithun Chakraborty Biography)

शंकर जयकिशन के साथ मुकेश ने 133 कल्याण जी आनंद जी के साथ 99  गीत गाए। जिनमें से चार गानों के लिए उनको फिल्म फेयर अवार्ड से नवाजा गया। और शंकर जयकिशन के साथ गाए गए गानों में उनको 3 अवार्ड्स  मिले। 

मुकेश बतौर अभिनेता और फिल्म निर्माता (Mukesh as an actor and film producer)

जैसे कि हम पहले भी बात कर चुके हैं मुकेश ने वर्ष 1941 में निर्दोष फिल्म से बतौर अभिनेता भी बॉलीवुड में पदार्पण किया था। इस फिल्म में उनकी सह अभिनेत्री नलिनी जयवंत थी। उनकी दूसरी फिल्म वर्ष 1947 में आदाब अर्ज आई। इसके पश्चात वर्ष 1953 में उन्होंने राज कपूर की फिल्म आह में एक गैस्ट रोल निभाया। वर्ष 1953 में ही उन्होंने बतौर  मुख्य अभिनेता  माशूका फिल्म में  सुरैया के साथ काम किया। मुकेश ने वर्ष 1951 मल्हार फिल्म से  अभिनेता अर्जुन और अभिनेत्री शम्मी के साथ डार्लिंग फिल्म्स के नाम से प्रोडक्शन कंपनी भी खोली।

 मुकेश के सुपरहिट गीतों की सूची (List of Mukesh superhit songs)

फिल्म का नाम गीत के बोल फिल्म का नाम गीत के बोल
 विद्या उसी की दुनिया मेला मैं भंवरा तू है फूल
 आवारा आवारा हूं श्री 420 मेरा जूता है जापानी
 यहूदी यह मेरा दीवानापन है मधुमति सुहाना सफर और यह मौसम हसीन
 उजाला यारों सूरत हमारी अनाड़ी सब कुछ सीखा हमने
 अनाड़ी किसी की मुस्कुराहटों  छलिया डम डम डिगा डिगा
 संगम मेरे मन की गंगा मिलन सावन का महीना
 मेरा नाम जोकर जीना यहां मरना यहां कल आज और कल टिक टिक टिक चलती जाए गाड़ी
 आनंद कहीं दूर जब दिन ढल जाए धर्म-कर्म 1 दिन बिक जाएगा
 कभी-कभी मैं पल दो पल का कभी-कभी कभी कभी मेरे दिल में

मुकेश के अवार्ड और सम्मान (Mukesh’s Awards and Honors)

वर्ष 1960 सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक फिल्मफेयर अवॉर्ड्स फिल्म अनाड़ी

वर्ष 1971 सर्वश्रेष्ठ पार्श्वगायक फिल्मफेयर अवॉर्ड्स फिल्म पहचान

वर्ष 1973 सर्वश्रेष्ठ पार्श्वगायक फिल्मफेयर अवॉर्ड्स फिल्म बेईमान

वर्ष 1977 सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक फिल्म फेयर अवार्ड फिल्म कभी कभी

वर्ष 1974 सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक नेशनल अवॉर्ड्स फिल्म रजनीगंधा

मुकेश की कुल संपत्ति 

12 करोड़ रूपए

मुकेश के संगीत गुरु का नाम

पंडित जगन्नाथ प्रसाद

मुकेश का जन्मदिन 

22 जुलाई 1923 

मुकेश की मृत्यु की तिथि

27 अगस्त 1976

मुकेश की मृत्यु का कारण

दिल का दौरा

error: Content is protected !!